Sri Sai Baba Thoughts - 1

साईं विचार

मैं अपने लोगों के बारे में दिन रात सोचता हूँ.
मैं बार-बार उनके नाम लेता हूँ. ||
I think of my people day and night.
I say their names over and over.

– Sai Baba

अगर मेरा भक्त गिरने वाला होता है तो मैं अपने हाथ बढ़ा कर उसे सहारा देता हूँ. ||
If a devotee is about to fall, I stretch out my hands to support him or her.

– Sai Baba

मैं अपने भक्तों का अनिष्ट नहीं होने दूंगा. ||
I will not allow my devotees to come to harm.

– Sai Baba

मेरी दृष्टि हमेशा उनपर रहती है जो मुझे प्रेम करते हैं. ||
My eye is ever on those who love me.

– Sai Baba

हमारा कर्तव्य क्या है?
ठीक से व्यवहार करना. ये काफी है. ||
What is our duty?
To behave properly. That is enough.


– Sai Baba

तुम जो भी करते हो, तुम चाहे जहाँ भी हो, हमेशा इस बात को याद रखो:
मुझे हमेशा इस बात का ज्ञान रहता है कि तुम क्या कर रहे हो. ||
Whatever you do, wherever you may be, always bear this in mind:
I am always aware of everything you do.


– Sai Baba

मेरी शरण में रहिये और शांत रहिये. मैं बाकी सब कर दूंगा. ||
Stay by me and keep quiet. I will do the rest.

– Sai Baba






साईं को वही पुकारता है जिस को साईं पुकारता है , डरते क्यों हो जब मैं यहाँ हूँ ।***** बाकी सब तो सपने है, बस साईं ही तेरे अपने है, साईं ही तेरे अपने है, साईं ही तेरे अपने है *****मैं यहाँ हूँ जब क्यों डर लगता है*****मैं हर जगह निराकार और हूँ*****मेरा व्यवसाय आशीर्वाद दे रहा है*****भगवान के लिए पूरी तरह से आत्मसमर्पण करना*****मैं अपने भक्त का दास हूँ*****इंसान में परमात्मा देखें*****मैं अपने नाम को दोहराता है जो कोई भी के किनारे रहते हैं*****मेरे भक्तों को अपने गुरु के रूप में सब कुछ देखते हैं*****भगवान में पूर्ण विश्वास रखो*****पूरी तरह से गुरु में विश्वास करो, यही ही साधना है*****मैं भगवान की अनुमति के बिना कुछ नहीं कर सकते*****मेरे लिए देखो और मैं तुम्हें करने के लिए तत्पर होगा*****हमेशा भगवान के बारे में सोच और आप देखो कि वे क्या करेंगे*****विश्वास और धैर्य है जहाँ तुम हो तो मैं तुम्हारे साथ हमेशा रहेगा*****भगवान की स्तुति हो मैं भगवान का ही दास हूँ*****लाभ और हानि, जन्म और मृत्यु ईश्वर के हाथ में हैं*****मुक्ति वासना के आदी लोगों के लिए असंभव है*****काम, बोलना भगवान के नाम और शास्त्रों पढ़ें: बेकार मत बनो*****